बाबा की पुत्र जीवक बीज पर अयुर्वेदाचार्यों की राय

बाबा की पुत्र जीवक बीज पर अयुर्वेदाचार्यों की राय

ब्यूरो। बाबा रामदेव की पुत्र जीवक बीज पर आयुर्वेदाचार्यों ने अपनी राय दी है। आयुर्वेद के विशेषज्ञ प्रोफेसरों ने बाबा रामदेव की पुत्र जीवक बीज के फार्मूले को सही माना है। इनके मुताबिक पुत्र प्राप्ति के लिए दवा का उल्लेख आयुर्वेद में किया गया है। आयुर्वेद डॉक्टरों का कहना है कि पुत्र जीवक बीज ही नहीं बल्कि पुंसवन संस्कार के जरिए भी पुत्र प्राप्ति की जा सकती है। हालांकि, उन्होंने लिंगानुपात को लेकर इसके प्रयोग को नियमित करने की भी बात कही। बाबा रामदेव की पुत्र जीवक बीज काफी विवादों…

6,578 total views, 3 views today

Read More

फाइब्रोमाइलजा तो नहीं आपकी थकान का कारण 

फाइब्रोमाइलजा तो नहीं आपकी थकान का कारण 

  अक्सर शरीर में थकान, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, पेट में दर्द और समय पर नींद ना आना और मानसिक तनाव के कारण से आप परेशान रहते होंगे। क्या आप जानते हैं कि आपकी इस बिमारी के पीछे फाइब्रोमाइलजा हो सकता है। ये अर्थराइटिस से जुड़ा हुआ एक रोग हैं। आयुर्वेद के मुताबिक ये वात दोष के कारण होता है। आइये जानते हैं पतंजलि आयुर्वेद के रिसर्च विंग के प्रमुख डॉ. एम. हेमंत कुमार से आखिर क्या है फाइब्रोमाइलजा और अर्थराइटिस। क्या आयुर्वेद में फाइब्रोमाइलजा का ईलाज है और…

73,072 total views, 64 views today

Read More

दिल मजबूत करती है अमरूद की पत्ती

दिल मजबूत करती है अमरूद की पत्ती

डॉ. एम. हेमंत कुमार। अमरूद की पत्तियां दिल को मजबूत करती है। अमरूद की प​त्तियों में ऐसे तत्व विद्यमान होते हैं, जो कार्डियोटोनिक की तरह काम करते हैं। ये दिल की सेहत और उसकी मजबूती में सहायक होते हैं। इतना ही  नहीं अमरूद की पत्तियों से बेक्टीरियल इंफेक्शन से होने वाले रोगों को भी दूर किया जा सकता है। उल्टी—दस्त में अमरूद की पत्ती का सेवन रामबाण दवा के तौर पर किया जा सकता है। डिसेंट्री और डायरिया में भी अमरूद की पत्ती का प्रयोग होता है। आयुर्वेद विशेषज्ञों के…

5,917 total views, 5 views today

Read More

परपंरागत चिकित्सा में सहयोग करेंगे भारत और मंगोलिया

परपंरागत चिकित्सा में सहयोग करेंगे भारत और मंगोलिया

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल ने आज भारत और मंगोलिया के बीच पारम्‍परिक चिकित्‍सा पद्धति व होम्‍योपैथी के क्षेत्र में सहयोग के लिए सहमति पत्र पर हस्‍ताक्षर को मंजूरी दे दी। प्रस्‍तावित सहमति पत्र पर हस्‍ताक्षर से दोनों देशों के बीच पारम्‍परिक चिकित्‍सा के क्षेत्र में आपसी सहयोग को बढ़ावा मिलेगा। इससे दोनों देश अपनी साझी ऐतिहासिक व सांस्‍कृतिक विरासत की महत्‍ता को स्‍वीकार कर सकेंगे। सहमति पत्र भारत की पारम्‍परिक चिकित्‍सा पद्धति व मंगोलिया में होम्‍योपैथी के क्षेत्र में दोनों देशों के बीच सहयोग को…

5,339 total views, 4 views today

Read More