यूरोप पर जीका वायरस का खतरा मंडराया, चेतावनी जारी

zika virus

zika virusयूरोप पर जीका वायरस का खतरा मंडराया, चेतावनी जारी
— डेंगू वाले मच्छर के काटने से फैलता है
ब्यूरो। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने तेजी से अपना दायरा बढ़ा रहे जीका वायरस को लेकर चेतावनी जारी की है। इसके मुताबिक यूरोपियन देशों को इस ओर ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता है। जिन देशों में Aedes mosquitoes मौजूद हैं वहां इसकी ज्यादा संभावना बताई गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक गर्मियों के आखिर वक्त में ये फैल सकता है। जीका वायरस

क्या है जीका वायरस
जीका वायरस मच्छरों के जरिए होने वाला एक रोग है। ये बंदरों में 1947 में यूगांडा में खोजा गया था। 1952 में ये यूगांडा और यूनाइटेड रिपब्लिक आॅफ तंजानिया में इंसानों में सामने आया था। इसके कई मामले अफ्रीका, अमेरिका, एशिया और पेसेफिक देशों में मिले हैं।

कैसे फैलता है
जीका वायरस एडीज जाति के खासतौर पर एडीज एजिपटी के काटने से फैलता है। ये वो ही मच्छर है जिसके काटने से डेंगू, चिकुन​गुनिया और पीला ज्वर फैलता है। इसके अलावा संक्रमित व्यक्ति का ब्लड चढ़ाने से भी ये हो जाता है। दुनिया भर की 64 देशों में जीका वायरस के मामले सामने आए हैं।

क्या हैं इसके लक्षण
जीका वायरस से पीडित मरीज को बुखार, त्वचा पर चकत्ते पड़ना, conjunctivitis यानी आंख आना, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द होना, सिर में दर्द रहना है।

क्या है इलाज
लक्षणों के आधार पर ही इसका इलाज किया जाता है। इसकी अभी तक कोई वैक्सीन या दवा नहीं बन पाई है। मच्छरों से बचाव ही इसका एक उपाय है।

9,982 total views, 10 views today

It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Related posts

Leave a Comment