गरीबी में जी रहे खिलाड़ियों को पांच लाख की सहायता

divide

divide

गरीबी में जी रहे खिलाड़ियों को पांच लाख की सहायता
— परिवार के इलाज के लिए भी मिलेगी सहायता
— मृत्यु पर परिजनों को ​मिलेंगे दस लाख

ब्यूरो। केंद्र सरकार ने खिलाड़ियों और खेल से जुड़े लोगों को मिलने वाली आर्थिक मदद और इलाज व अन्य मदों में मिलने वाली सहायता को बढ़ा दिया है। खेल मंत्रालय ने राष्ट्रीय कल्याण कोष में संशोधन किया गया है।
खिलाड़ियों और खेल से जुड़े लोगों के लिए राष्ट्रीय कल्याण कोष की स्थापना 1982 में हुई थी। कोष की स्थापना पुराने दौर के उन बेहतरीन खिलाड़ियों की सहायता के लिए की गई थी , जिन्होंने अपने प्रदर्शन से देश का गौरव बढ़ाया था लेकिन अब गरीबी में रह रहे हैं। जुलाई, 2009 में इस योजना की अंतिम बार समीक्षा की गई थी और इसके आधार पर इसमें संशोधन हुआ था।
खिलाड़ियों और खेल से जुड़े लोगों के लिए राष्ट्रीय कल्याण कोष की एक बार और समीक्षा हुई है और इसके आधार पर इसमें व्यापक संशोधन हुए हैं।
संशोधित योजना के तहत अब खिलाड़ियों के लिए वित्तीय सहायता प्राप्त करने की अहर्ता सीमा बढ़ा दी गई है। पहले यह सीमा दो लाख रुपये की सालाना आय थी लेकिन अब यह बढ़ा कर चार लाख रुपये कर दी गई है।
इस योजना का दायरा भी बढ़ाया गया है ताकि ज्यादा से ज्यादा खिलाड़ियों और खेल से जुड़े लोगों को वित्तीय सहायता योजना का लाभ मिल सके।
कल्याण कोष से आवंटित होने वाली राशि भी बढ़ा दी गई है। इस स्कीम के तहत गरीबी में रह रहे खिलाड़ी, खेल से जुड़े लोगों और उनके परिवार के सदस्य निम्नलिखित वित्तीय सहायता प्राप्त होने के हकदार होंगे-

1. गरीबी में रह रहे बेहतरीन खिलाड़ियों और खेल से जुड़े लोगों के लिए अधिकतम पांच लाख रुपये की वित्तीय सहायता मुहैया कराई जा सकती है।

2. प्रशिक्षण या प्रतियोगिता में हिस्सा लेते समय घायल होने पर खिलाड़ियों और खेल से जुड़े लोगों को 10 लाख रुपये तक की अधिकतम वित्तीय सहायता दी जा सकती है।

3. पांच लाख रुपये की अधिकतम वित्तीय सहायता उन बेहतरीन खिलाड़ियों और खेल से जुड़े लोगों के परिवार वालों को दिया जाएगा, जो अब इस दुनिया में नहीं हैं।

4. गरीबी में रह रहे बेहतरीन खिलाड़ियों या उसके परिवार के किसी सदस्य के इलाज के दस लाख रुपये तक की वित्तीय सहायता दी जाएगी।

5. दो लाख रुपये तक की सहायता राशि कोच और उनसे जुड़े सहायक जैसे खेल डॉक्टर, खेल मनोचिकित्सक, परामर्शदाता और राष्ट्रीय कोचिंग शिविरों से जुड़े मालिश करने वालों को मिलेगी। वरिष्ठ श्रेणी के खिलाड़ियों और राष्ट्रीय टीम (वरिष्ठ श्रेणी) के कोचिंग कैंपों में शामिल इस तरह के लोगों को यह सहायता मिलेगी। अंतरराष्ट्रीय मैचों, ओलंपिक, एशियाई और कॉमनवेल्थ गेम में अंपायर, रेफरी, मैच अधिकारियों को भी यह मदद मिलेगी। यह सहायता उस स्थिति में मिलेगी जब इस तरह के खेलों से जुड़े खिलाड़ी और उनसे जुड़े लोग निर्धनता में रह रहे हों। या उनका परिवार निर्धनता में रह रहा हो।

79,785 total views, 187 views today

It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Related posts

Leave a Comment