इस बीमारी का दुनिया में कोई इलाज नहीं

multis
इस बीमारी का दुनिया में कोई इलाज नहीं 
ब्यूरो। दुनिया में एक ऐसा रोग है जिसके हर साल हजारों मरीज सामने आते हैं। लेकिन, आज तक इसकी जड़ तक कोई नहीं पहुंच पाया है। आखिर ये बीमारी होती क्यों है और इसका स्थायी इलाज क्या है। सिर्फ लक्षणों के आधार पर ही इसका उपचार किया जाता है। इस बीमारी को मेडिकल की दुनिया में Multiple Sclerosis मल्टीपल स्केलरोसिस के तौर पर जाना जाता है। इस बीमारी के प्रति जागरूकता लाने के लिए मई के आखिरी बुधवार को दुनिया भर में World Multiple Sclerosis मनाया जाता है। इस बार ये 25 मई को मनाया जाएगा। इस साल इसकी थीम हैं ‘Independence’ यानी आजादी।
क्या है Multiple Sclerosis 
ये दुनिया भर में सामान्य तौर पर होने वाला न्यूरोलोजिक डिसआर्डर है जो युवाओं में अपंगता का मुख्य कारण है। इस बीमारी के कारणों का अभी तक पता नहीं चल पाया है। साथ ही इसका कोई इलाज भी नहीं तलाशा जा सका है। हालांकि, इसके लक्षणों के आधार पर कुछ उपचार जरूर किया जाता है। ताकि मरीज को राहत मिल सके। इस बीमारी के लक्षण प्रत्येक व्यक्ति में अलग—अलग हो सकते हैं।
क्या है इसके लक्षण 
शरीर के कौन से हिस्से के नर्व यानी तंत्रिका प्रभावित हुई है। इस आधार पर ही इसके लक्षणों को निर्धारित किया जाता है। इसके कुछ मुख्य लक्षण निन्म हैं
शरीर के अंगों में कमजोरी और सुन्नपन रहना
नजर में धुंधलापन होना, या बिल्कुल नजर चले जाना
बोलने में तुतलाहट होना
चक्कर आना और तालमेल की कमी होना
शरीर के हिस्सों में गुदगुदी लगना या दर्द होना
कैसे लगता है इसका पता 
न्यूरोलोजिस्ट लक्षणों के आधार पर कई तरह के परीक्षण कराता है तब जाकर इसका पता चल पाता है।
impaired nerve function परीक्षण के आधार पर इसका पता लगाया जाता है।
आंखों का परीक्षण करने पर
Spinal tap (lumbar puncture):इस टेस्ट में एक सुई के जरिए मरीज की स्पाइन से फ्ल्यूड लिया जाता है। इसकी जांच के बाद इस बीमारी का पता लग जाता है।
किनको हैं ज्यादा खतरा 
Age. हालांकि ये किसी भी उम्र में हो सकता है। लेकिन, पंद्रह से 60 साल की उम्र के लोगों को इसका खतरा ज्यादा रहता है।
Family history. परिवार में पहले किसी को इस बीमारी के होने पर इसका ज्यादा खतरा रहता है।

11,355 total views, 8 views today

It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Related posts

Leave a Comment